विस में विपक्ष का हंगामा, किसान कर्ज माफी और गुर्जर आरक्षण का मुद्दा गूंजा

जयपुर, । पन्द्रहवीं विधानसभा के पहले सत्र के दूसरे चरण की सोमवार को हंगामेदार शुरुआत हुई। पहले ही दिन किसान कर्ज माफी और गुर्जर आरक्षण आंदोलन को लेकर विपक्षी भारतीय जनता पार्टी, बहुजन समाज पार्टी और राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के सदस्यों ने जोरदार हंगामा किया। इसके चलते सदन की कार्यवाही दो बार स्थगित करनी पड़ी। सोमवार सुबह सदन की कार्यवाही शुरू होने के बाद सबसे पहले रामगढ़ से चुनी गई कांग्रेस विधायक सफिया खान को शपथ दिलाई गई। इसके बाद प्रश्नकाल की कार्यवाही भी शांतिपूर्ण तरीके से चली। शोकाभिव्यक्ति के बाद शून्य काल शुरू होते ही नदबई के बहुजन समाज पार्टी विधायक जोगिंदर सिंह अवाना और नगर विधायक वाजिब अली ने गुर्जर आरक्षण आंदोलन का मुद्दा उठाया। अवाना ने कहा कि गुर्जरों को पांच प्रतिशत आरक्षण देने के मामले को सरकार गंभीरता से ले और केंद्र सरकार को तुरंत प्रस्ताव भिजवाए। विधायक वाजिब अली ने कहा कि आरक्षण को लेकर सरकार के पास आज वक्त है। सरकार इस पर स्थिति स्पष्ट करें। दोनों सदस्य इस मसले पर सरकार से नीति स्पष्ट करने की मांग को लेकर वेल में आ गए। इनके समर्थन में बसपा विधायक राजेंद्र सिंह गुढ़ा, दीपचंद खेरिया और एक अन्य विधायक भी वेल में आकर नारेबाजी करने लगे। पांचों विधायक वेल में धरने पर बैठ गए। इसी दौरान दोपहर करीब साढ़े बारह बजे नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने किसानों की सम्पूर्ण कर्ज माफी पर सरकार को घेरते हुए जवाब मांगने लगे। कटारिया ने कहा कि सरकार किसानों के साथ धोखा कर रही है। संसदीय कार्य मंत्री शांति धारीवाल जवाब देने के लिए खड़े हुए, लेकिन भारतीय जनता पार्टी के सदस्यों ने उनकी बात नहीं सुनी। सदस्य हंगामा करते हुए वेल में आ गए और जबरदस्त नारेबाजी करने लगे। हंगामे और नारेबाजी के बीच कार्यवाही चलती रही। इसी दौरान राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के विधायक हनुमान बेनीवाल ने पर्ची के माध्यम से गुर्जर आंदोलन का मुद्दा एक बार फिर उठाया। उन्होंने कहा कि गुर्जर समाज के लोग अधिकारों की मांग को लेकर पटरी पर बैठे हैं। भारतीय जनता पार्टी की वजह से गुर्जरों को आरक्षण नहीं मिला है। अब तक 72 गुर्जरों ने शहादत दी है। जब प्रधानमंत्री मोदी सामान्य वर्ग को आरक्षण दे सकते हैं तो गुर्जरों को क्यों नहीं। उन्होंने सरकार से मांग की कि गुर्जरों को आरक्षण दिया जाए। बेनीवाल ने कहा, सरकार गुर्जरों को आरक्षण देने का प्रस्ताव केंद्र में लेकर जाए। केंद्र में भाजपा की सरकार है। संविधान में संशोधन करवाकर उन्हें आरक्षण दिलवाए। विधायक जोगेंद्र सिंह ने भी उनका समर्थन किया। बेनीवाल और जोगेंद्र के समर्थन में बसपा, रालोपा सदस्य समेत दस विधायक गुर्जर आरक्षण को लेकर भी वेल में आकर नारेबाजी करने लगे। दोनों ओर से कुछ भी स्पष्ट सुनाई नहीं दे रहा था। गुर्जर आरक्षण और किसान कर्ज माफी को लेकर आधा घंटे तक विपक्षी सदस्यों का हंगामा नहीं रुका तो विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी ने सदन की कार्यवाही एक घंटे तक के लिए स्थगित कर दी। जब करीब दो बजे की कार्यवाही शुरू हुई तो भाजपा के सदस्य फिर हंगामा करने लगे। भाजपा के उपनेता राजेंद्र राठौड़ ने कहा कि किसान कर्जमाफी पर ठगा सा महसूस कर रहा है। जो वादा किया था, उससे सरकार मुकर रही है। इस पर सत्ता पक्ष के सदस्यों ने विरोध किया। सदन में फिर हंगामा होने लगा। इस पर विधानसभा अध्यक्ष ने दोबारा सदन की कार्यवाही पौने चार बजे तक के लिए स्थगित कर दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *