स्वाइन फ्लू को लेकर बाल चिकित्सालय में कोई कोताही नहीं डॉ. पोसवाल

उदयपुर, । उदयपुर के संभाग के सबसे बड़े राजकीय महाराणा भूपाल राजकीय चिकित्सालय अधीक्षक डॉ. लाखन पोसवाल ने स्पष्ट किया है बाल चिकित्सालय के स्वाइन फ्लू वार्ड में सामान्य मरीजों की जांच नहीं की जा रही है। स्थानीय मीडिया में रविवार को प्रकाशित समाचार को तथ्यों से परे एवं भ्रामक बताते हुए उन्होंने कहा कि स्वाइन फ्लू को लेकर अस्पताल प्रशासन कोई कोताही नहीं बरत रहा है। रिपोर्ट में एक मरीज को स्वाइन फ्लू वार्ड में टीका लगाने की बात को गलत ठहराते हुए डॉ. पोसवाल ने कहा कि उक्त टीकाकरण नर्सिंग स्टेशन में किया गया था न कि वार्ड में। उस वक्त वार्ड में कोई भर्ती भी नहीं था। ऐसे में मरीज को किसी प्रकार के संक्रमण की कोई संभावना नहीं थी। डॉ पोसवाल ने बताया कि कुछ दिनों पहले एक स्थानीय समाचार पत्र में 8 घंटे में 9 बच्चों की मृत्यु का समाचार भी तोड़-मरोड़ कर पेश किया गया था। तीन अलग-अलग कमेटियों की जांच में यह स्पष्ट हुआ है कि 28 जनवरी को शिशु गहन चिकित्सा इकाई में भर्ती होने वाले कुल 13 बच्चों में से सिर्फ 1 की मृत्यु हुई थी, जबकि उक्त समाचार में 5 बच्चों की मौत होना बताया गया जो सर्वथा गलत है। सभी कमेटियों ने अपनी जांच में पाया कि इलाज में कोई लापरवाही नहीं बरती गई और शिशु गहन चिकित्सा इकाई में चिकित्सा की सभी आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध हैं। डॉ. पोसवाल ने बताया कि एमबी अस्पताल में प्रतिदिन 5 हजार आउटडोर एवं लगभग ढाई हजार इनडोर मरीजों का इलाज होता है। इसके लिए अस्पताल में सभी सुविधाएं उपलब्ध हैं। कई बार रैफर होकर आने वाले मरीज गंभीरावस्था में होते हैं जिनका इलाज कहीं पर भी संभव नहीं होता है। डॉ. पोसवाल ने यह सवाल भी उठाया कि किसी अवधि विशेष में मरने वाले मरीजों की संख्या कितनी होगी इसका निर्धारण कोई कैसे कर सकता है। उन्होंने आमजन से अपील की कि एमबी अस्पताल में स्तरीय चिकित्सा सुविधाएं राजकीय नियमानुसार निशुल्क उपलब्ध हैं। लोग किसी भी भ्रामक समाचार से नहीं डरें और अस्पताल की चिकित्सा सुविधाओं का लाभ उठावें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *